• Fri. Dec 8th, 2023

Anant Clinic

स्वस्थ रहें, मस्त रहें ।

मूंग दाल का पानी पीने के फायदे नुकसान और सेवन विधि | benefits of moog daal water in hindi

Byanantclinic0004

Mar 19, 2020
मूंग दाल का पानी पीने के फायदे नुकसान और सेवन विधि | benefits of moog daal water in hindiमूंग दाल के पानी के फायदे नुकसान और सेवन विधि | benefits of moog daal water | moong daal benefits in hindi | मूंग दाल में कौन-कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं | मूंग दाल खाने के नुकसान | मूंग दाल खाने के फायदे | मूंग दाल के पानी के अद्भुत फायदे | मूंग दाल के पानी के फायदे | मूंग दाल का पानी पीने की सेवन विधि | benefits of moong daal water in hindi | moong daal water uses in hindi | side effects of moong daal water in hindi
moong daal benefits in hindi


Table of Contents

  परिचय  

मूंग दाल किसी परिचय की मोहताज नहीं है। हम सब मूंग दाल के बारे में जानते हैं। हमने अपने जीवन में अनेक बार मूंग दाल की सब्जी, अंकुरित मूंग दाल, मूंग दाल का पानी, मूंग दाल का हलवा आदि किसी न किसी रूप में सेवन अवश्य किया होगा।

मूंग दाल साबुत हो या फिर धुली हुई पोषक तत्वों से भरपूर होती है, इसको अंकुरित करने के बाद इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व जैसे- कैल्शियम, आयरन, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, मैग्नीशियम, क्लोराइड, सोडियम, पोटेशियम और विटामिंस की मात्रा दुगनी हो जाती है। मूंग दाल शक्तिवर्धक होती है ज्वर और कब्ज के रोगियों के लिए इसका सेवन लाभदायक होता है।

{getToc} $title={Table of Contents}

यह भी पढ़ें – दमा, रसोली, नेत्र रोग, यौन रोग, धात, स्वपनदोष आदि में यशद भस्म के उपयोग और सेवन विधि

उड़द दाल की तरह यह भी तीन प्रकार की होती है।

१- मूंग साबुत

मूंग दाल खाने के फायदे और नुकसान | moong daal ke benefits in hindi
moong daal ke fayde or nuksan

२- मूंग छिलका

moong daal benefits in hindi
moong daal benefits in hindi

३- मूंग धुली हुई।

मूंग दाल में कितना प्रोटीन होता है
जैसा कि हमने ऊपर जिक्र किया और आप सब भी जानते ही हैं, कि मूंग दाल हमारे खाने में स्वाद बढ़ाने के साथ-साथ स्वास्थ्य की दृष्टि से भी कितनी लाभदायक है।

लेकिन आज हम मूंग दाल नहीं बल्कि मूंग दाल के पानी के फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं जो कि 60 से ज्यादा बीमारियों में उपयोगी है। और लगभग सभी आयु वर्ग के लिए सूटेबल है अर्थात सुरक्षित है, लाभदायक है।

मूंग की दाल को आयुर्वेद में सभी दालों में सर्वोत्तम माना गया है, और अगर आप इसी मूंग दाल का पानी बनाकर पिए तो यह स्वास्थ्य की दृष्टि से सर्वश्रेष्ठ माना गया है तो आइए जानते हैं।

और पढ़ें – बैक पेन, मसल्स पेन, सर्वाइकल, ऐंठन, गठिया बाय के लिए रामबाण औषधि त्रयोदशांग गुग्गुल के फायदे नुकसान और सेवन विधि।

मूंग दाल के पानी के फायदे नुकसान और सेवन विधि | benefits of moog daal water in hindi

1- मूंग की दाल का पानी अकेला ही 60 से ज्यादा तरह की बीमारियों में फायदा करता है।

2- ऐसी बीमारियां जो इंफेक्शन के कारण यह बारिश के मौसम में होती हैं, जैसे- बुखार, कब्ज, पेट दर्द आदि उन सब में मूंग की दाल का पानी बहुत अच्छा काम करता है।

3- बारिश के मौसम में जब बीमारियों का प्रकोप ज्यादा रहता है, तो आप बहुत बार कंफ्यूज हो जाते हैं, कि बीमार व्यक्ति को क्या दें खाने-पीने को कि वह जल्दी से ठीक हो जाए ऐसे में मूंग दाल का पानी बहुत ही अच्छा है।

4- मूंग की दाल का पानी आसानी से उपलब्ध एक सस्ती दवा है। जो पचने में भी आसान है।

5- यह लगभग हर तरह के रोगी या व्यक्ति को दिया जा सकता है, कहने का मतलब इसका प्रयोग हर कोई कर सकता है।

यह भी पढ़ें –  अशोकारिष्ट के फायदे और नुकसान 

6- मूंग की दाल के पानी की सबसे अच्छी बात यह है, कि इसके नुकसान या साइड इफेक्ट ना के बराबर हैं।

7- मूंग दाल का पानी पाचन ( digestive system ) से जुड़ी समस्याओं में सबसे अच्छा है, जैसे कि बुखार आदि।

8- यह शीतल नेचर का होने के कारण पित्त या गर्मी से जुड़े रोगों में बहुत अच्छा काम करता है, जैसे- पेट में जलन होना, सिर गर्म होना या हाथों पैरों में जलन होना, शरीर से खून निकलना आदि।

9- जिनको गर्मी के कारण या पित्त बढ़ने के कारण नकसीर आती है। अर्थात नाक से खून निकलता है। उनके लिए भी यह बहुत फायदेमंद है।

10- यह लघु है अर्थात पचने में हल्का होता है। जो कि आसानी से पच जाता है। जिससे बीमार व्यक्ति को ठीक होने में मदद मिलती है।

किन-किन बीमारियों में मूंग दाल का पानी या मूंग दाल का सेवन जरूर करना चाहिए आइए जानते हैं

1-शरीर को ताकत देता है

मूंग की दाल के पानी को आयुर्वेद में जीवनदायी अर्थात जीवन देने वाला कहा गया है, क्योंकि यह उस समय शरीर को ताकत देता है जब शरीर लंबी बीमारी के कारण जैसे टी. बी‌. आदि में बहुत कमजोर हो गया और उसमें कुछ खाने और पचाने का सामर्थ्य नहीं बचा है, रोगी जब आईसीयू ( ICU ) में होता है। तब भी यह रोगी को शक्ति प्रदान करता है, अर्थात जीवन देने का काम करता है।
शरीर में कोई भी इंजरी ( injury ) होने पर, जख्म होने पर,पस या मवाद होने पर मूंग दाल का पानी अवश्य पीएं जरूर फायदा होगा।

3-कफ के रोगों में 

कफ के रोगों में जैसे- मोटापा ( obesity ), थायराइड ( thyroid ) या ब्लॉकेज की समस्या होना, दमा, अस्थमा, ब्रोंकाइटिस ( bronchitis ), आदि इन सभी समस्याओं में भी मूंग दाल के पानी का सेवन जरूर करना चाहिए।

4-ब्लड के रोगों में 

ब्लड के रोगों में खासकर जिनको ब्लीडिंग होती है, नाक से खून निकलता है या बहुत बार देखा गया है, कि महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान ज्यादा खून आता है। इन सब में भी मूंग के दाल के पानी का सेवन करने से लाभ होता है।

5-पेशाब में खून आना 

पेशाब में खून आना या मल के साथ खून आना या इंटरनल ब्लीडिंग( internal bleeding ) होना आदि इन सब में भी मूंग दाल का पानी जरूर पिएं।
मूंग दाल का पानी काफी हद तक खून को भी साफ करता है अतः हम इसे रक्तशोधक भी कह सकते हैं।

7-हृदय के टॉनिक के रूप में 

अगर आप अपने घर में ही कोई हृदय ( heart ) के लिए टॉनिक खोज रहे हैं तो यह है उसमें भी बहुत ही अच्छा है, अर्थात आप एक हार्ट टॉनिक के रूप में भी इसका प्रयोग कर सकते हैं।

8-दीपन और पाचन में  

यह पाचन और दीपन का काम करता है अतः जिनको भूख नहीं लगती या जिनके मुंह का स्वाद चला ( कुछ भी खाते हैं मुंह में उसका स्वाद ही नहीं आता ) गया है उन सभी के लिए भी मूंग दाल का पानी बहुत फायदेमंद है।

9-सूजन कम करने में  

यह एक अच्छा शोथहर ( सूजन कम करने वाला ) है अतः जिनके शरीर में सूजन आ गई है यह उनके लिए भी बहुत फायदेमंद है, उन्हें भी इसका सेवन जरूर करना चाहिए।

10-एड़ी में होने वाले दर्द में 

जिनको सुबह-सुबह पैरों और एड़ी में दर्द होता है, और जैसे-जैसे दिन चढ़ता है, दर्द गायब होने लगता है। ऐसे सभी व्यक्तियों को शाम के खाने की जगह सिर्फ मूंग की दाल का पानी पीना चाहिए 8-10 दिन के प्रयोग में ही आप देखेंगे कि सुबह के दर्द वाली समस्या में बहुत फायदा है मिला है।

11-फीवर में  

यह फीवर अथवा ज्वर की बहुत अच्छी दवा है, जैसे मलेरिया, चिकनगुनिया, डेंगू आदि।

12-पित्त के रोगों में 

पित्त के रोगों में जिनको बहुत ज्यादा गर्मी लगती है, पसीना बहुत आता है, हाथों पैरों में जलन होती है। ऐसे सभी लोगों को इस पानी का सेवन जरूर करना चाहिए।

13-ब्लॉकेज की समस्या में  

जिनके शरीर में अम्लता अधिक है या ब्लॉकेज की समस्या है, उन सभी के लिए भी मूंग की दाल का पानी बहुत फायदेमंद है क्योंकि यह बहुत ज्यादा एल्कलाइन होता है।

14-हाथों – पैरों में जलन होने पर  

जो लोग बहुत ज्यादा शराब पीते हैं, ज्यादा गर्म, तीखा, चटपटा खाते रहते हैं, जिसके कारण उनके हाथों पैरों में जलन होती है, एकदम आग जैसी निकलती मालूम पड़ती है, उन सभी व्यक्तियों के लिए मूंग दाल का पानी बहुत फायदेमंद है।

15-गले के ऊपर की लगभग सभी बीमारियों में 

गले के ऊपर की लगभग सभी बीमारियों में मूंग की दाल का पानी बहुत अच्छा है जैसे- आंख, नाक, कान या सिर से संबंधित रोगों में।
 

यह भी पढ़ें –  त्रिभुवन कीर्ति रस के गुण और उपयोग

मूंग की दाल के इतने फायदे हैं तो मन में सवाल आता है कि इसको तैयार कैसे करें तो आइए जानते हैं।

आयुर्वेद के अनुसार मूंग की दाल का पानी तैयार करने के लिए आप जितनी मात्रा में मूंग ले रहे हैं उसका 18 गुना पानी डालकर उसे तब तक उबालें जब तक वह एक चौथाई ना रह जाए तब आप उसका सेवन करेंगे तो यह आपके लिए बहुत फायदेमंद होगा।

इसे एक उदाहरण से समझें –

मूंग की दाल 50 ग्राम
18 गुना पानी – 18 × 50 = 900 ml

इसे तब तक उबालें जब तक यह एक चौथाई ना रह जाए –

900 ÷ 4 = 225 ml पानी का सेवन करें।

मूंग दाल में कौन-कौन से पोषक तत्व कितनी मात्रा में मौजूद होते हैं –

मूंग दाल में क्या - क्या होता है
मूंग दाल में कौन-कौन से पोषक तत्व पाए जाते हैं

मूंग दाल के पानी के नुकसान

मूंग की दाल का पानी वैसे तो पूर्णतया सुरक्षित है फिर भी मूंग की दाल का पानी कब लेना चाहिए किस बीमारी में कितनी मात्रा में लेना चाहिए इन सबके लिए अपने नजदीकी चिकित्सक से संपर्क करें और उनकी देखरेख में ही सेवन करें।

दोस्तों इस ब्लॉग में हमने मूंग दाल के पानी के फायदों के बारे में बताया है उम्मीद आपको जरूर पसंद आया होगा पसंद आने पर कमेंट, लाइक एंड शेयर जरूर करें ताकि और लोग भी मूंग की दाल के पानी का फायदा ले सकें।

(Visited 35 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *